धोखाधडी से बीएसएफ में भर्ती होने का प्रयास, मामला दर्ज

Attempt to get admitted to BSF by fraud, case registered
Attempt to get admitted to BSF by fraud, case registered

बीकानेर, (samacharseva.in)। धोखाधडी से बीएसएफ में भर्ती होने का प्रयास, मामला दर्ज, सदर थाना पुलिस ने बीएसएफ में भर्ती के लिये धोखाधडी करने के आरोप में एक परीक्षार्थी सुनील कुमार मीणा पुत्र गंगासहाय मीणा के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

सीकर जिले में गांव पोस्‍ट भारणी तहसील श्रीमाधोपुर निवासी व हाल श्रीगंगानगर जिले के रायसिंह नगर क्षेत्र में सीमा सुरक्षा बल बीएसएफ की 156 वाहिनी में तैनात 44 वर्षीय इंसपेक्‍टर गोपाल सिंह जाट पुत्र पालीराम जाट ने मंगलवार 24 नवंबर की देर रात को बीकानेर के सदर थाने में दर्ज कराये मामले में पुलिस को बताया कि आरोपी सुनील कुमार मीणा द्वारा बीएसएफ भती में फीजिकल देने आया था मगर पूर्व में उसके दवारा दिये गए उसके रिकार्ड से ताजा दिया गया रिकार्ड अलग-अलग था।

पूर्व में दिये गए रिकार्ड का मिलान नहीं होने पर आरोपी के खिलाफ धोखाधडी करने का मामला दर्ज कराया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 419 व 420 के तहत मामला दर्ज किया है। मामले की जांच एएसआई गोविन्‍द सिंह को सौंपी है।

उषा जोशी, अपराध संवाददाता 7597514697, ushajoshi0077@gmail.com

Attempt to get admitted to BSF by fraud, case registered

Bikaner, (samacharseva.in). The Sadar police station police have registered a case against a candidate, Sunil Kumar Meena, son Gangashay Meena, for cheating for recruitment in BSF.

Paliram Jat, a 44-year-old inspector Gopal Singh Jat, posted in the 156 Corps of Border Security Force BSF in Raisingh Nagar area of ​​Hall Sriganganagar district, a resident of postal bharani tehsil Srimadhopur in Sikar district, lodged at Sadar police station in Bikaner late on Tuesday 24 November In the case of Kareya, the police was told that the accused had come to give physicals to BSF Bhai by Sunil Kumar Meena but the record given by him was different from the record given by him earlier.

A case of cheating was filed against the accused for not matching the record given earlier. The police have registered a case against the accused under sections 419 and 420 of the IPC. The investigation of the case has been handed over to ASI Govind Singh.