बगैर मिट्टी के पौधों को उगाने की तकनीक है हाइड्रोपोनिक्स

156
Hydroponics1(1)
Hydroponics

प्रेरक अग्रवाल

बीकानेर, (समाचार सेवा)।  बगैर मिट्टी के पौधों को उगाने की तकनीक है हाइड्रोपोनिक्स, क्या आपने कभी मिट्टी के बिना, पौधों को उगाने के बारे में सोचा है? अगर नहीं तो जानिए… कृषि बाजार में एक नई तकनीक – ‘हाइड्रोपोनिक्स’ का दौर चल रहा है, जो खेती की प्रक्रिया और भविष्य दोनों को बदल सकता है। काफी लंबे समय से मनुष्य खेती में अपना हाथ आजमा रहा है। हमने विभिन्न प्रकार के पौधों की खेती की है, विभिन्न प्रकार की फसलों को उगाया है, और विभिन्न कृषि तकनीकों का अविष्कार किया है।

अब एक नई तकनीक है, जिसके द्वारा हम मिट्टी के उपयोग के बिना भी पौधों को विकसित कर सकते हैं। इस प्रक्रिया को हाइड्रोपोनिक्स कहते हैं। हाइड्रोपोनिक्स की प्रक्रिया के माध्यम से, हम मिट्टी के बिना पौधों को पानी में ही विकसित कर सकते हैं। पौधों को उगाने के लिए पानी एवं पोषक तत्व की आवश्यकता होती है , जो पौधे मिट्टी से लेते हैं। यदि हम ये सभी आवश्यक पोषक तत्वों को किसी अन्य स्रोत के माध्यम से पौधों को प्रदान करें, जैसे कि पानी में पोषक तत्वों के घोल के द्वारा, तो हुमें पौधों को उगाने के लिए मिट्टी पर निर्भर रहने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

हाइड्रोपोनिक्स के माध्यम से हम कृषि प्रौद्योगिकी में उन्नत हो सकते हैं। विश्वभर में लोग सुरक्षित वातावरण में उगाए जाने वाले स्वस्थ भोजन की तलाश करते हैं, जहाँ हाइड्रोपोनिक्स उस ज़रूरत को पूरा कर सकता है।

हाइड्रोपोनिक्स : कृषि उद्योग में गेम चेंजर

जैसा कि यह प्रक्रिया पौधों को विकसित करने के लिए मिट्टी पर निर्भर नहीं करती है, अब सवाल उठता है कि यह प्रणाली पौधे को उगाने में कैसे मदद करती है? इसका उत्तर है, पौधे की जड़ों को क्ले पैलेट, पीट मॉस वर्मीक्यूलिट, रॉक वूल द्वारा सपोर्ट दिया जाता है, जो पौधों को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने में मदद करते हैं और पौधे को स्थिर बेस प्रदान करता है। जरूरत है तो बस पौधों को पोषक तत्वों से भरपूर पानी के घोल के सीधे संपर्क में लाने की।

आप बिना अधिक परेशानी के हाइड्रोपोनिक्स द्वारा पौधों को उगा के बेच सकते हैं एवं इस तकनीक को अपनी अतिरिक्त आय का साधन भी बना सकते हैं। यह तकनीक उद्योग में काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह पौधों को उगाने के लिए किसी भी प्रकार के विशेष कौशल की मांग नहीं करती। इसके अलावा, इस तकनीक द्वारा पौधे उगाने में कोई भारी पूंजी की आवश्यकता भी नहीं होती।

इस तकनीक को अपनाकर, आप कम स्थान का उचित उपयोग कर अधिक उद्पादन कर सकते हैं और साथ ही पौधों की वृद्धि के लिए रासायनिक उर्वरकों के उपयोग को भी कम कर सकते हैं। यह तकनीक शहरी क्षेत्रों में पौधों एवं फसलों को उगाने के लिए काफी अच्छी साबित हुई है। हाइड्रोपोनिक्स तकनीक के इतने सारे फायदों के साथ, संभावनाएं हैं कि यह भविष्य में शहरों का पुनर्गठन कर उन्हें पर्यावरण के अनुकूल बना सकती है । कृषि उद्योग के लिए हाइड्रोपोनिक्स एक गेम चेंजर साबित हो सकता है।

हालांकि, यह इतना भी आसान नहीं है जितना यह प्रतीत होता है, हाइड्रोपोनिक्स के माध्यम से पौधों को विकसित करने के लिए कृषि विशेषज्ञों के उचित मार्गदर्शन की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, माई अर्बन ग्रीन्स (इफको किसान द्वारा एक पहल) www.myurbangreens.com , शहरी आबादी और प्रगतिशील किसानों को उनकी आवश्यकताओं के अनुसार सलाहकार सेवाएं प्रदान कर रहा है।

श्री संदीप मल्होत्रा, एमडी एवं सीईओ, इफको किसान ने कहा, “पानी की कमी को लेकर विश्वभर में काफी चर्चाएँ होती हैं; हाइड्रोपोनिक्स कृषि उद्योग के साथ-साथ आम घरों में एक वरदान के रूप में उभर रहा है। इस प्रक्रिया के माध्यम से, पौधे पारंपरिक बागवानी प्रणाली की तुलना में पानी की कम मात्रा का उपयोग करते हैं। यह तकनीक सिर्फ पानी बचाने में मदद नहीं करती है, बल्कि यह देखा गया है कि हाइड्रोपोनिक्स तकनीक से उगाए जाने वाले पौधों में 50% अधिक विटामिन एवं पोषक तत्व होते हैं और पारंपरिक रूप से विकसित पौधों की तुलना में यह अधिक तेजी से बढ़ते हैं। किसानों के लिए इस तकनीक के माध्यम से पौधे उगाना काफी लाभदायक साबित हो सकता है। ”

उन्होंने आगे कहा, “इफको किसान एफपीओ और प्रगतिशील किसानों को खेती की सर्वोत्तम प्रथाओं से संबंधित विशेषज्ञ सलाह भी प्रदान करता है। हमने किसानों को इस तकनीक को आसानी से समझाने के लिए कई भाषाओं में सलाहकार सेवाओं की शुरुआत की है। हम किसानों को इस तकनीक को अपनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं और इसके साथ ही, विभिन्न राज्यों में कई प्रशिक्षण कार्यक्रमों की आयोजना की तैयारी भी कर रहे हैं।”

इफको किसान टेलिफोनिक परामर्श और अपने विशेषज्ञों द्वारा साइट विसिट भी प्रदान करता है। जिससे किसान एवं शहरी लोग नई कृषि तकनीकों को आसानी से समझ व सीख सकें।  “इफको किसान अर्बन ग्रीन्स” मोबाइल एप्लिकेशन / वेब पोर्टल के माध्यम से, व्यक्तियों और समुदायों दोनों को अपने घर में स्वस्थ, पौष्टिक आहार को उगाने में मदद करता है और हाइड्रोपोनिक्स के माध्यम से शहरी बागवानी के लिए किसानों को एवं शहरी लोगों को सुविधाएं मुहैया कराने का प्रयास कर रहा है।

Samacharseva.in Best News portal of Bikaner Local News and Events नमस्कार साथियों, samacharseva.in न्यूज वेबसाइट बीकानेर (राजस्थान) से संचालित है। यह एक न्यूज ग्रुप है। इसके के लिये समाचार, फीचर, फोटो व वीडियो samacharseva@gmail.com तथा neerajjoshi74@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें 9251085009, 9521868060 पर कॉल कर सकते हैं, व्हाटस एप पर संदेश दे सकते हैं। एसएमएस भेज सकते हैं। साथ ही 0151-2970812 पर कॉल पर संपर्क कर सकते हैं अथवा अपना संदेश फैक्स कर सकते हैं। समाचार सेवा गुप का एक यूटयूब चैनल SAMACHAR SEVA भी है। हमारा फेसबुक पेज https://www.facebook.com/SamacharSevaBikaner है। लिंकड इन पेज https://www.linkedin.com/feed/?trk= है। टिवटर पेज https://twitter.com/neerajoshi है। गूगल प्लtस पेज https://plus.google.com/u/0/+SAMACHARSEVA है। इंस्‍टाग्राम पेज https://www.instagram.com/neerajjoshi_/ है।