बीकानेर नगर स्थापना दिवस पर सूर्यनुमा पतंग ‘चंदा‘ उड़ाने की तैयारी

Preparations to fly Suryanuma kite ‘Chanda’ on Bikaner city foundation day
Preparations to fly Suryanuma kite ‘Chanda’ on Bikaner city foundation day

आकाश में चंदा उड़ाकर दिया जायेगा खुशहाली का संदेश

बीकानेर, (समाचार सेवा)बीकानेर नगर स्थापना दिवस पर सूर्यनुमा पतंग ‘चंदा‘ उड़ाने की तैयारी, बीकानेर स्थापना दिवस पर इस बार अक्षय द्वितीया और अक्षय तृतिया के मौके पर शहर में गोल सूर्यानुमा राजपतंग ‘चंदा‘ उड़ाकर खुशहाली का संदेश दिया जाएगा। कीकाणी व्यासों के चौक में हैप्पी व्यास परिवार इसकी तैयारियों में जुट चुका है।

हैप्पी व्यास परिवार के पंडित बृजेश्वर लाल व्यास ने बताया कि इस वर्ष चंदे पर कई प्रकार के स्लोगन लिछे गये हैं। इनमें ‘पश्चिम धर रा बादशाह, पाछा लो अवतार, कोड़ बांझ ने दूर करयो, अब करो कोरोना रो नाश‘ ‘ऐ कोरोना यही पर रूक जाना कुछ काम अभी तक बाकी है, अरमान जलाते आया हूं अरमान जलाने बाकी है।

इस प्रकार भगवान से अर्ज कर इस महामारी से छुटकारा पाने की आस की है। इसी प्रकार कोरोना वारियर्स के लिए भी ‘अपने करूणा के बुंदों से, जो रोक रहे है कोरोना की ज्वाला, खुद विष पीकर दुनिया को देते है अमृत का प्याला। स्लोगन लिखकर धन्यवाद किया गया। व्यास बताया कि पिछले 37 सालों से हर परिस्थितियों गुजरकर उन्होंने ये परम्परा निभाई है।

शहर के साफा और चन्दा विशेषज्ञ गणेश व्यास का कहना है कि प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइन को मानते हूए, अगर समाज का एक एक व्यक्ति उनकी पालना नही करेगा तो नुकसान पूरे शहर को हो सकता है। कोरोना महामारी से बचने का केवल एक मात्र उपचार है वो है बचाव। व्यास बताते है इस साल स्थापना दिवस पर उन्होंने चंदा बनाकर विधिवत मंत्रोचार से पूजन करेंगे और चन्दा उड़ाकर शहर के आमजनों से घर में रहने कि अपील चन्दा उड़ाकर करेंगे।

वर्तमान में पूरा विश्व महामारी का सामना कर रहा है। लगातार लग रही पाबंदियों से बीकानेर मे हालात बिगड़ते नजर आ रहे है। ऐसे में व्यास परिवार द्वारा नये तरीके से शहरवासियों से कोरोना महामारी रोकथाम की अपील करेंगे।

परंपरा का निर्वहन करता परिवार

व्यास परिवार के अनुसार बीकानेर स्थापना दिवस अक्षय द्वितीया और अक्षय तृतिया के मौके पर शहर में पतंगबाजी के साथ गोल सूर्यानुमा राजपतंग ‘चंदा‘ उड़ाने की सदैव से परम्परा  रही है। बीकानेर बसाने के बाद यहां के तत्कालीन राजा राव बीका जी ने तेज आंधियो में सूर्य न दिखने की वजह से, एक सूर्यनुमा पतंग बनाकर उसमें अपनी खुद की पगड़ी लगाकर सूर्यदेव को नमस्कार किया।

तब से ये परम्परा बीकानेर में चलती आ रही है। एक समय के बाद जब राजपरिवार में चन्दा उड़ना बंद हुआ तो मथेरण जाति के लोग इसे उड़ाने लगे और उनके बन्द करने बाद कीकाणी व्यासों के चौक में हैप्पी व्यास परिवार पिछले 37 सालों से ये परम्परा निभाता चला आ रहा है।

चंदा उड़ाने से नही फैल सकता कोरोना    

हैप्पी व्यास परिवार के राहुल व्यास ने बताया पिछले साल प्रशासन द्वारा पंतग उड़ाने पर पांबदी लगाई गयी थी जबकि इस बार अभीतक कोई आदेश नही आया है।

पंतग की माने तो पंतग कट कर दूसरों के हाथों मे जाने से संक्रमण फैलने की आशंका रहती है जबकि चंदा उड़ाने से कोई आंशका नही रहेती।

चंदा उड़ाकर वापिस नीचे उतार लिया जाता है ऐसे में किसी ओर व्यक्ति के हाथ लगने की एवं कोरोना संक्रमण फैलने कि आशंका नही रहती है।

नत्थूसर गेट क्षेत्र में पोस्टर चस्पा कर आमजन से की समझाइश

बीकानेर, (समाचार सेवा)कोरोना जागरूकता अभियान के तहत सोमवार को एनसीसी की सात राज बटालियन द्वारा नत्थूसर गेट क्षेत्र की किराणा, दूध और दवाईयों की दुकानों पर स्टीकर तथा ऑटो रिक्शा पर पोस्टर चिपकाकर आमजन से कोविड एडवाइजरी की पालना की अपील की गई।

जागरूकता अभियान के समन्वयक राजेन्द्र जोशी ने बताया कि सात राज बटालियन के एनसीसी के कैडेट्स और स्काउट गाइड के रोवर-रेंजर्स द्वारा सोमवार को नत्थूसर गेट क्षेत्र में आमजन को जागरूक किया गया।

जोशी ने बताया कि आमजन को जागरूक करने के उद्देश्य से सूचना एवं जनसंपर्क के द्वारा पेम्पलेट तथा परिवहन विभाग द्वारा उपलब्ध करवाए गए पोस्टर भी चस्पा किए गए। इस दौरान एनसीसी के सीनियर अंडर ऑफिसर हितेश शर्मा, अंडर ऑफिसर तुषार बजाज, इतिश्री राजावत, सर्जेंट गणेश गिरी, कैडेट रामदेव, जितेन्द्र, दिनेश, इन्द्रजीत, श्रवणसिंह, हेमलता, आदित्य तिवारी मौजूद रहे।